जयशंकर का इस्राइल दौरा: ओव्दा एयरबेस पहुंचे, सैन्य अभ्यास में हिस्सा ले रहे भारतीय वायुसेना दल से मिले

{“_id”:”616ee10a853b851f682b8666″,”slug”:”india-minister-of-external-affairs-s-jaishankar-visits-israel-ovda-airbase-meets-indian-airforce-contingent”,”type”:”feature-story”,”status”:”publish”,”title_hn”:”जयशंकर का इस्राइल दौरा: ओव्दा एयरबेस पहुंचे, सैन्य अभ्यास में हिस्सा ले रहे भारतीय वायुसेना दल से मिले”,”category”:{“title”:”World”,”title_hn”:”दुनिया”,”slug”:”world”}}

वर्ल्ड डेस्क, अमर उजाला, तेल अवीव
Published by: कीर्तिवर्धन मिश्र
Updated Tue, 19 Oct 2021 08:45 PM IST

सार

इस्राइल में जारी सैन्य अभ्यास में भारत के अलावा अमेरिका, ब्रिटेन, जर्मनी, फ्रांस, इटली, यूनान भी हिस्सा ले रहे हैं। इसमें पहली बार एफ-35 लड़ाकू विमान शामिल किए गए हैं।

विदेश मंत्री एस जयशंकर इस्राइल में भारतीय वायुसेना के कर्मियों से मिले।
– फोटो : Twitter/MEA

ख़बर सुनें

ख़बर सुनें

विदेश मंत्री एस जयशंकर मंगलवार को इस्राइल के ओव्दा वायुसेना स्टेशन पहुंचे। यहां उन्होंने ब्लू फ्लैग सैन्य अभ्यास में हिस्सा ले रहे भारतीय वायुसेना दल के सदस्यों से मुलाकात की। इस अभ्यास में आठ देशों के वायुसेना दल हिस्सा ले रहे हैं। अभ्यास का मकसद परिचालनात्मक क्षमता को बेहतर बनाने के लिए जानकारी और लड़ाई से जुड़े अनुभव साझा करना है।
इस अभ्यास में भारतीय वायुसेना के 84 कर्मी और पांच आधुनिक मिराज-2000 लड़ाकू विमान हिस्सा ले रहे हैं। ये फ्रांस से मिले विमानों के उन्नत रूप हैं और आधुनिक हथियार प्रणाली से लैस हैं। इस्राइल में जारी इस अभ्यास में अमेरिका, ब्रिटेन, जर्मनी, फ्रांस, इटली, यूनान और इस्राइल हिस्सा ले रहे हैं। इसमें पहली बार एफ-35 लड़ाकू विमान हिस्सा ले रहे हैं।
इससे पहले, विदेश मंत्री जयशंकर ने इस्राइल की संसद नेसेट के स्पीकर माइके लेवी से मुलाकात की। जयशंकर ने ट्वीट कर बताया कि उन्होंने इस्राइल की संसद- नेसेट के स्पीकर माइके लेवी से आज सुबह मुलाकात की। विदेश मंत्री ने कहा कि वह भारत के साथ संबंधों को नेसेट में व्यापक समर्थन की सराहना करते हैं।
भारत इस द्विवार्षिक अभ्यास में 2017 से हिस्सा ले रहा है। इन सैन्य अभ्यासों में उसका ध्यान अलग-अलग परिस्थितियों में तलाशी एवं बचाव अभियान, सीमापार आतंकवाद निरोधक अभियान सहित विशेष अभियानों से जुड़ी क्षमता को बढ़ाने पर था। भारत ने उस समय 45 सदस्यीय दल भेजा था जिसमें 16 गरूड़ कमांडो शामिल थे। भारतीय वायु सेना की ओर से तब सी-130जे सुपर हरक्यूलिस विमान भी भेजा गया था।
इस्राइल, भारत को हथियारों की आपूर्ति करने वाले शीर्ष देशों में शामिल है । भारत इस्राइल से जो हथियार लेता है, उनमेंहवाई चेतावनी और नियंत्रण प्रणाली फॉल्कन अवाक्स से लेकर सर्चर, हेरॉन और हारोप जैसे यूएवी, एयरोस्टेट और ग्रीन पाइन रडार और मिसाइल-रोधी बराक प्रणाली आदि शामिल हैं।

विस्तार

विदेश मंत्री एस जयशंकर मंगलवार को इस्राइल के ओव्दा वायुसेना स्टेशन पहुंचे। यहां उन्होंने ब्लू फ्लैग सैन्य अभ्यास में हिस्सा ले रहे भारतीय वायुसेना दल के सदस्यों से मुलाकात की। इस अभ्यास में आठ देशों के वायुसेना दल हिस्सा ले रहे हैं। अभ्यास का मकसद परिचालनात्मक क्षमता को बेहतर बनाने के लिए जानकारी और लड़ाई से जुड़े अनुभव साझा करना है।

Source link