मोदी-बायडेन की पहली द्विपक्षीय बैठक में हिंद-प्रशांत, जलवायु परिवर्तन, कोविड पर हुई चर्चा

PM Narendra Modi, President Joe Biden hold first bilateral meeting- India TV Hindi
Image Source : ANI
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज अमेरिका के राष्ट्रपति जो बायडेन से व्हाइट हाउस में मुलाकात की।

वॉशिंगटन: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज अमेरिका के राष्ट्रपति जो बायडेन से व्हाइट हाउस में मुलाकात की। दोनों के बीच करीब 90 मिनट की बातचीत हुई। इस दौरान दोनों नेताओं ने कोविड-19 एवं जलवायु परिवर्तन, व्यापार और हिंद-प्रशांत सहित प्राथमिकता वाले कई मुद्दों पर चर्चा की। बायडेन ने कहा कि विश्व के दो सबसे बड़े लोकतंत्र भारत एवं अमेरिका के बीच संबंधों की नियति ही शक्तिशाली, मजबूत (बनना) और करीब आना है। राष्ट्रपति बायडेन ने व्हाइट हाउस के ओवल ऑफिस में प्रधानमंत्री मोदी का स्वागत करते हुए कहा कि वे आज अमेरिका-भारत के संबंधों का एक नया अध्याय शुरू कर रहे हैं। बायडेन ने भारत एवं अमेरिका के मीडिया कर्मियों के समक्ष कहा कि उनका काफी समय से यह मानना रहा है कि अमेरिका एवं भारत के संबंध वैश्विक चुनौतियों का समाधान निकालने में सहायता कर सकते हैं।

जो बायडेन ने कहा, ‘‘हमारे समझ जो सबसे कठिनतम चुनौतियां हैं उनका सामना करते हुए (हम) भारत एवं अमेरिका के संबंधों में एक नया अध्याय शुरू करने जा रहे हैं।’’ उन्होंने कहा कि यह कोविड-19 को समाप्त करने के हमारी साझा प्रतिबद्धता के साथ हो रहा है। मोदी, 2014 में प्रधानमंत्री बनने के बाद से सातवीं बार अमेरिका की यात्रा कर रहे हैं। बायडेन के साथ शुक्रवार को हुई बैठक को महत्वपूर्ण करार देते हुए मोदी ने कहा कि वे इस शताब्दी के तीसरे दशक में मिल रहे हैं। प्रधानमंत्री मोदी ने बायडेन से कहा, ‘‘यह दशक कैसा स्वरूप लेता है, इसमें निश्चित तौर पर आपका नेतृत्व महत्पूर्ण भूमिका निभाएगा। भारत और अमेरिका के बीच और मजबूत मित्रता के लिए बीज बो दिये गये हैं।’’

मोदी ने बैठक के बाद ट्वीट कर जो बायडेन के साथ हुई इस बैठक को असाधारण करार दिया। उन्होंने कहा, ‘‘हमने इस बात पर चर्चा की कैसे भारत एवं अमेरिका विभिन्न क्षेत्रों में सहयोग बढ़ा सकते हैं और कोविड-19 एवं जलवायु परिवर्तन जैसी प्रमुख चनौतियों से पार पाने के लिए मिलकर काम कर सकते हैं।’’ बायडेन ने कहा कि विश्व के दो सबसे बड़े लोकतंत्र भारत एवं अमेरिका के संबंधों की नियति ही शक्तिशाल, मजबूत (बनना) एवं करीब आना है। अमेरिकी राष्ट्रपति ने प्रधानमंत्री मोदी से कहा, ‘‘मैं काफी समय से यह मानता रहा हूं कि अमेरिका-भारत संबंध कई वैश्विक चुनौतियों का हल करने में हमारी सहायता कर सकते हैं। मैंने 2006 में भी यह कहा था कि भारत एवं अमेरिका विश्व के सबसे करीबी संबंधों वाले राष्ट्र होंगे।’’

अमेरिकी राष्ट्रपति ने कहा, ‘‘निश्चित रूप से हमारी भागीदारी उससे कहीं आगे हैं जितना महज हम कर पा रहे हैं। यह लोकतांत्रिक मूल्यों को स्थापित रखने की हमारी उन साझा प्रतिबद्धताओं, विविधता के प्रति हमारी वचनबद्धता, तथा हमारे पारिवारिक संबंधों के बारे में है जिनमें चालीस लाख भारतीय अमेरिकी शामिल हैं, जो प्रति दिन अमेरिका को और मजबूत बनाने के लिए प्रयासरत हैं। ’’ उन्होंने ध्यान दिलाया कि अगले सप्ताह विश्व महात्मा गांधी की जयंती मनाएगा। उन्होंने कहा कि विश्व को आज उनके अहिंसा, सम्मान और सहिष्णुता के संदेश की जितनी आवश्यता है, उतनी शायद पहले कभी नहीं थी। इस पर मोदी ने कहा, ‘‘गांधीजी ट्रस्टीशिप की बात करते थे, जो हमारे ग्रह के लिए आने वाले समय में एक बहुत महत्वपूर्ण अवधारणा है।’’

मोदी ने कहा कि भारत अमेरिका के संबंधों में व्यापार एक महत्वपूर्ण पक्ष है और इस क्षेत्र में बहुत कुछ किए जाने की संभावना है। उन्होंने कहा, ‘‘मैं इस बात से प्रसन्न हूं कि भारतवंशी अमेरिका की प्रगति में सक्रिय योगदान कर रहे हैं।‘’ प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि प्रौद्योगिकी आगे ले जाने वाली शक्ति बन चुकी है। उन्होंने कहा, ‘‘हमें व्यापक वैश्विक लक्ष्यों के लिए प्रौद्योगिकी का लाभ उठाने के मकसद से अपनी प्रतिभाओं का उपयोग करना होगा।’’ मोदी ने 2014 एवं 2016 में बायडेन के साथ हुई बातचीत को याद करते हुए कहा, ‘‘उस समय आपने भारत एवं अमेरिका के बारे में अपना दृष्टिकोण साझा किया था। मुझे प्रसन्नता है कि आप उस दृष्टकोण को साकार करने के लिए काम कर रहे हैं।’’

!function (f, b, e, v, n, t, s) {
if (f.fbq)
return;
n = f.fbq = function () {
n.callMethod ? n.callMethod.apply(n, arguments) : n.queue.push(arguments);
};
if (!f._fbq)
f._fbq = n;
n.push = n;
n.loaded = !0;
n.version = ‘2.0’;
n.queue = [];
t = b.createElement(e);
t.async = !0;
t.src = v;
s = b.getElementsByTagName(e)[0];
s.parentNode.insertBefore(t, s);
}(window, document, ‘script’, ‘//connect.facebook.net/en_US/fbevents.js’);
fbq(‘init’, ‘1684841475119151’);
fbq(‘track’, “PageView”);

Source link