Trending News: ये है देश का बेहद अनोखा गांव, सभी घरों की छत पर खड़े रहते हैं चार्टर प्लेन और जानवर

Trending News: भारत में आज भी करीब 70 आबादी गांवों में रहती है. देश में कई गांव अपनी खूबसूरती के लिए दुनियाभर में मशहूर हैं. वहीं कई गांव में अजीबोगरीब परंपराएं हैं, जिनके लिए उनको लोग जानते हैं. आज हम आपको ऐसे ही एक गांव के बारे में बताने जा रहे हैं. जहां घरों की छतें अपने विशेष डिजाइन के लिए जानी जाती है. यानी गांव के हर घर की छत पर कोई न कोई खास डिजाइन बनी होती है. यहां घरों की छत पर आपको चार्टर प्लेन से लेकर गाय और बाज जैसे पशु-पक्षी दिख जाएंगे.

देशभर में मशहूर है गांव

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, ये खास गांव बिहार के कटिहार जिले में मौजूद है. कटिहार जिले के कुर्सेला प्रखंड में बलथी महेशपुर नामक गांव में ये परंपरा बन चुकी है. गांव वाले घरों की छतों को खूबसूरत दिखाने के लिए ये खास डिजाइन बनवाते हैं. गांव वालों का कहना है कि घरों ऐसी डिजाइन बनवाते हैं ताकि उनके घरों को लोग आसानी से दूर से ही पहचान लें. यही खासियत इस गांव को सुर्खियों में बनाए हुए है. लोग इसकी खूब चर्चा करते हैं.

शौक के चलते शुरू हुई प्रथा

जानकारी के मुताबिक, इस प्रथा की शुरुआत सबसे पहले कटिहार जिले के बलथी महेशपुर गांव के कुछ लोगों ने अपने शौक के चलते अपने घरों की छतों पर सीमेंट की कुछ न कुछ विशेष आकृति बनवा ली. शौक बड़ी चीज होती है. ये परंपरा इस गांव की पहचान बन गई है. अब गांव के लोगों का ये शौक केवल बिहार का ही नहीं बल्कि पूरे देश में अलग पहचान बन चुका है.

ऐसे हुई शुरुआत

गांव वालों के मिली जानकारी के मुताबिक, इस गांव के रोमी खान नाम के शख्स ने सबसे पहले घर बनावाते वक्त इसकी शुरुआत की थी. उन्होंने अपने घर की छत पर आकर्षण सीमेंट से एयर इंडिया लिखा हुआ हवाई जहाज का मॉडल बनवा लिया. इसके बाद रोमी के पड़ोसी मुकेश गुप्ता ने अपनी छत पर भोले बाबा के वाहन नंदी बैल की आकृति बनवा ली. इसी तरह गांव के अन्य लोगों ने  फुटबॉल, बाज समेत कई तरह की आकृति बनवाई हैं.

ये ख़बर आपने पढ़ी देश की सर्वश्रेष्ठ हिंदी वेबसाइट Zeenews.com/Hindi पर

LIVE TV

$(window).on(‘load’, function() {
var script = document.createElement(‘script’);
script.src = “https://connect.facebook.net/en_GB/sdk.js#xfbml=1&version=v5.0&appId=2512656768957663&autoLogAppEvents=1”;
document.body.appendChild(script);
});

Source link