Gyanvapi Masjid Row: ज्ञानवापी में शिवलिंग मिलने का उड़ाया था मजाक, DU का ये प्रोफेसर हो गया अरेस्ट

Prof Ratan Lal Arrested: दिल्ली पुलिस ने ज्ञानवापी परिसर में शिवलिंग निकलने पर सोशल मीडिया पर आपत्तिजनक टिप्पणी करने के आरोप में दिल्ली यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर रतन लाल (Prof Ratan Lal) को अरेस्ट कर लिया है. रतन लाल दिल्ली के हिंदू कॉलेज में एसोसिएट प्रोफेसर हैं. उनकी अरेस्टिंग पर कुछ स्टूडेंट्स ने विरोध भी जताया लेकिन (Delhi Police) ने उनकी एक नहीं सुनी और गिरफ्तार करके ले गई.  

सुप्रीम कोर्ट के वकील ने दर्ज करवाई थी शिकायत

बता दें कि सुप्रीम कोर्ट के वकील विनीत जिंदल ने रतनलाल (Prof Ratan Lal) के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई थी. वकील विनीत जिंदल ने अपनी शिकायत में कहा कि रतन लाल ने मस्जिद में शिवलिंग मिलने के मामले में एक अपमानजनक और उकसाने वाला ट्वीट किया था. वह ट्वीट बेहद संवेदनशील था और धार्मिक भावनाओं को भड़काने वाला था. 

हिंदू धर्म का मजाक उड़ाने का आरोप

एडवोकेट विनीत जिंदल ने कंप्लेंट में कहा था कि मामला अभी अदालत के सामने है, ऐसे में प्रोफेसर रतन लाल (Prof Ratan Lal) ने ज्ञानवापी मामले में अभद्र टिप्पणी कर कानून का भी मजाक उड़ाया है. उनकी कंप्लेंट पर दिल्ली पुलिस (Delhi Police) की साइबर सेल ने आईपीसी की धारा 153a और 295a के तहत केस दर्ज कर लिया था. 

प्रोफेसर ने अपनी पोस्ट का किया था बचाव

गिरफ्तार से पहले प्रोफेसर रतन लाल (Prof Ratan Lal) ने अपनी पोस्ट का बचाव करते हुए बयान दिया था. रतन लाल ने कहा था, ‘भारत में यदि आप कुछ भी बोलते हैं, तो किसी न किसी की भावना को ठेस पहुंचेगी. इसलिए यह कोई नई बात नहीं है. मैं एक इतिहासकार हूं और मैंने कई टिप्पणियां की हैं. जैसा कि मैंने उन्हें लिखा था, मैंने अपनी पोस्ट में बहुत सुरक्षित भाषा का इस्तेमाल किया है और अब भी मैं अपना बचाव करूंगा.’

ये भी पढ़ें- Places of Worship Act का मतलब ये नहीं कि धार्मिक पहचान का पता ना लगाया जाए: SC की अहम टिप्पणी

लोग कर रहे थे प्रोफेसर की अरेस्टिंग की मांग

वकील का आरोप है कि रतन लाल (Prof Ratan Lal) ने ज्ञानवापी परिसर में शिवलिंग मिलने पर ऐसी टिप्पणी की थी, जिसे शब्दों में बयान नहीं किया जा सकता. रतन लाल ने शिवलिंग को खतने से जोड़ते हुए हिंदू धर्म और सनातन धर्म के देवी-देवताओं का मजाक उड़ाया था. उनके इस ट्वीट पर सोशल मीडिया पर दिल्ली पुलिस (Delhi Police) से उन्हें गिरफ्तार करने की मांग चल रही थी. रतन लाल खुद को आंबेडकरवादी बताते हैं और इससे पहले भी कई बार विवादों में रहे हैं.

LIVE TV

Source link